20 नवंबर, 2013

‘मैं’ एक समस्यायें अनेक !!!

मैं' एक स्वीकार है
मैं भविष्य का शोध,
मैं आगाज़,मैं विनाश 
मैं उपजाऊ, मैं बंज़र 
बंजरता सोच की - जो मैं'के व्यक्तित्व से जुड़ी होती है 
मैं'सकारात्मक न हो 
तो न कोई संरचना सम्भव है 
न ही पलायन !!!   
                   रश्मि प्रभा 











‘मैं’ एक समस्यायें अनेक 
समस्यायें अनेक
रूप अनेक
लेकिन व्यक्ति केवल एक।
नहीं होता स्वतंत्र अस्तित्व
किसी समस्या या दुःख का,
नहीं होती समस्या 
कभी सुप्तावस्था में,
जब जाग्रत होता 'मैं'
घिर जाता समस्याओं से।
मेरा 'मैं'
देता एक अस्तित्व 
मेरे अहम् को 
और कर देता आवृत्त
मेरे स्वत्व को।
मैं भुला देता मेरा स्वत्व
और धारण कर लेता रूप 
जो सुझाता मेरा 'मैं'
अपने अहम् की पूर्ती को।
नहीं होती कोई सीमा 
अहम् जनित इच्छाओं की,
अधिक पाने की दौड़ देती जन्म 
ईर्ष्या, घमंड और अवसाद 
और घिर जाते दुखों के भ्रमर में।

'मैं' नहीं है स्वतंत्र शरीर या सोच,
जब हो जाता तादात्म्य 'मैं' का 
किसी भौतिक अस्तित्व से 
तो हो जाता आवृत्त अहम् से
और बन जाता कारण दुखों  
और समस्याओं का.
कर्म से नहीं मुक्ति मानव की
लेकिन अहम् रहित कर्म 
नहीं है वर्जित 'मैं'.
हे ईश्वर! तुम ही हो कर्ता
मैं केवल एक साधन 
और समर्पित सब कर्म तुम्हें
कर देता यह भाव 
मुक्त कर्म बंधनों से,
और हो जाता अलोप 'मैं'
और अहम् जनित दुःख।

जब हो जाता तादात्म्य 
अहम् विहीन ‘मैं’ का   
निर्मल स्वत्व से, 
हो जाते मुक्त दुखों से 
और होती प्राप्त परम शांति।

कैलाश शर्मा 

15 टिप्‍पणियां:

  1. मैं उपजाऊ, मैं बंज़र
    बंजरता सोच की - जो मैं'के व्यक्तित्व से जुड़ी होती है
    मैं'सकारात्मक न हो
    तो न कोई संरचना सम्भव है
    न ही पलायन !!!
    ...उत्कृष्ट व गहन चिंतन....बहुत बहुत आभार मेरी रचना को यहाँ स्थान देने के लिए...'मैं' का यह सफ़र यूँ ही चलता रहे...

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर कविता ! चित्त को शुद्ध करती हुई

    उत्तर देंहटाएं
  3. रहने देते हैं
    चलो मेरे मैं को
    तेरे मैं की
    बात करें कुछ !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरा मैं यहीं रह गया
      तेरा मैं मुझे पता है
      गया है वहीं जहां मेरा
      मैं जाता रहा है हमेशा
      और आज भी गया है :) सौरी सौरी

      हटाएं
  4. हे ईश्वर! तुम ही हो कर्ता
    मैं केवल एक साधन

    सरजी बहुत ही गहरी और सुन्दर रचना... !

    उत्तर देंहटाएं
  5. एक सार्थक जीवन दर्शन से रू ब रू कराती बहुत ही सुंदर प्रस्तुति ! बधाई स्वीकार करें !

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर ...एक और मोती के लिए आभार रश्मिजी

    उत्तर देंहटाएं

  7. सुन्दर प्रस्तुति-
    शुभकामनायें आदरणीय-

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आप की इस प्रविष्टि की चर्चा शनिवार 23 /11/2013 को मेरा ये जीवन और नौ ग्रह ... ...( हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल : 049 )
    - पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें, सादर ....

    उत्तर देंहटाएं
  9. मैं'सकारात्मक न हो
    तो न कोई संरचना सम्भव है
    न ही पलायन !!!
    बिल्‍कुल सच .....

    उत्तर देंहटाएं
  10. गहरा चिंतन ... मैं के सकारात्मक रुख का परिचय ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. http://www.fcom.bu.edu.eg
    http://www.fcom.bu.edu.eg/fcom/index.php/dean-word
    http://www.fcom.bu.edu.eg/fcom/index.php/programms
    http://www.fcom.bu.edu.eg/fcom/index.php/team-work
    http://www.fcom.bu.edu.eg/fcom/index.php/students
    http://www.fcom.bu.edu.eg/fcom/index.php/dean-word
    http://www.fcom.bu.edu.eg/fcom/index.php/programms
    http://www.fcom.bu.edu.eg/fcom/index.php/staff
    http://www.fcom.bu.edu...om/index.php/talem-maftoh
    http://www.fcom.bu.edu.eg/fcom/index.php/dean-word
    http://www.fcom.bu.edu.eg/fcom/index.php/programms

    उत्तर देंहटाएं